Shayari of the Day | माँ के पैरों में ही तो वो जन्नत

Add Comment

+ +